Top5+निबंध मेरा प्रिय खेल पर।top essays on my favorite game in hindi

1 : मेरा प्रिय खेल निबंध इन हिंदी

मेरा पसंदीदा खेल निबंध-खेल एक इंसान के लिए बहुत महत्वपूर्ण हैं।  यह आदमी को फिट रखता है।  इतना ही नहीं यह उसे बीमारियों से भी दूर रखता है।  किसी व्यक्ति के लिए कुछ शारीरिक शौक होना जरूरी है।  सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि कई पोषण विशेषज्ञ और डॉक्टर इसकी सलाह देते हैं।  बच्चे कई खेल खेलते हैं।  उनमें से कुछ क्रिकेट, बास्केटबॉल, फ़ुटबॉल हैं।  टेनिस, बैडमिंटन, आदि। चूंकि भारत में प्रसिद्ध खेल क्रिकेट है, इसलिए कई बच्चे इसे शौक के रूप में ले रहे हैं।  लेकिन मेरा पसंदीदा फुटबॉल है।

जब मैं बच्चा था तो मुझे भी क्रिकेट पसंद था लेकिन उसमें कभी अच्छा नहीं था।  इसलिए मैंने अपने शौक को फुटबॉल में बदल लिया।  फुटबॉल मेरे लिए कक्षा 3 में नया था। मैं शुरुआत में अच्छा नहीं खेल पाया।  लेकिन मुझे खेल बहुत पसंद आया।  तो मैंने इसका अभ्यास करना शुरू कर दिया।  नतीजतन, मैंने इसे अच्छा खेलना शुरू किया।

कक्षा 5 में मैं अपनी कक्षा फुटबॉल टीम का कप्तान बना।  उस समय मैं कप्तान बनने के लिए बहुत उत्साहित था।  समय के साथ फुटबॉल के बारे में काफी कुछ सीखने को मिला।

फुटबॉल में कुल 22 खिलाड़ी खेलते हैं।  खिलाड़ियों का विभाजन दो टीमों में होता है।  प्रत्येक टीम में 11 खिलाड़ी होते हैं।  इन खिलाड़ियों को केवल पैरों से गेंद से खेलना होता है।  उन्हें दूसरी टीमों के गोल पोस्ट में गेंद को किक करना होता है।  फुटबॉल क्रिकेट की तरह नहीं है।  फुटबॉल में मौसम कोई समस्या नहीं है।  जिससे खिलाड़ी इसे पूरे साल खेल सकते हैं।

फुटबॉल के अलावा सहनशक्ति का खेल है।  खिलाड़ियों को पूरे खेल के लिए मैदान पर दौड़ना होता है।  वो भी 90 मिनट के लिए।  चूंकि 90 मिनट बहुत होते हैं इसलिए समय में विभाजन होता है।  दो पड़ाव हैं।  पहला 45 मिनट का है।  इसी तरह सेकेंड हाफ भी 45 मिनट का है।

 खेल में नियम

अन्य सभी खेलों की तरह कुछ नियम और कानून भी हैं।  सबसे पहले गेंद को हाथ से गेंद को नहीं छूना चाहिए।  अगर गेंद को हाथ से छुआ जाता है तो दूसरी टीम को फ्री-किक मिलती है।  गोल पोस्ट के पास एक छोटा सा क्षेत्र है।  ‘डी’ उस क्षेत्र का नाम है।  ‘डी’ की सीमा गोल पोस्ट से कम से कम 10 गज की दूरी पर है।  यदि खिलाड़ी वहां गेंद को छूता है तो विपरीत टीम को पेनल्टी मिलती है।

इसके अलावा और भी नियम हैं।  दूसरा महत्वपूर्ण नियम ‘ऑफ-साइड रूल’ है।  इस नियम में, यदि खिलाड़ी डिफेंडर लाइन को पार करता है तो वह ऑफसाइड बन जाता है।  यदि आप फुटबॉल के सच्चे प्रशंसक हैं तो आपको पता होना चाहिए कि रक्षक क्या होते हैं।

खेल में, खिलाड़ी तीन उपश्रेणियों में होते हैं।  पहली श्रेणी फॉरवर्ड है।  फॉरवर्ड वे खिलाड़ी होते हैं जो गेंद को गोल पोस्ट के जाल में डालते हैं।  दूसरी श्रेणी मिडफील्डर है।  मिडफील्डर वे खिलाड़ी होते हैं जो गेंद को आगे के खिलाड़ी को पास करते हैं।  तीसरी श्रेणी रक्षकों की है।  डिफेंडर टीम के अन्य खिलाड़ियों को गेंद को गोल पोस्ट में डालने के लिए रोकते हैं।

मैदान पर खेलने वाले सभी खिलाड़ियों के अलावा अन्य खिलाड़ी भी होते हैं।  ये स्थानापन्न खिलाड़ी हैं।  फुटबॉल एक कठोर खेल है।  जिससे कई खिलाड़ी चोटिल हो जाते हैं।  जब खिलाड़ी चोटिल हो जाते हैं तो बाकी के खेल के लिए स्थानापन्न खिलाड़ी उनकी जगह ले लेते हैं।

इसके अलावा, मैदान पर एक रेफरी है।  जब भी कोई जगह फाउल करती है तो रेफरी सीटी बजाता है और खेल को रोक देता है।  रेफरी तब टीम को पेनल्टी या फ्री-किक देता है जिसके खिलाफ फाउल होता है।

इसके अलावा, यदि कोई खिलाड़ी टीम के दूसरे खिलाड़ी को चोट पहुँचाता है और बेईमानी करता है, तो रेफरी उसे पीला या लाल कार्ड देता है।  पीला कार्ड एक चेतावनी कार्ड है।  लाल कार्ड एक निलंबन कार्ड है।  यह कार्ड खिलाड़ी को शेष खेल के लिए निलंबित कर देता है।

 

2 : मेरा प्रिय खेल निबंध इन हिंदी 150 words

खेल आवश्यक हैं क्योंकि वे शरीर और दिमाग को विकसित और विकसित करने में मदद करते हैं, चाहे वह शैक्षिक वातावरण में हो या घर पर।  खेल खेलने से मुझे हमेशा सक्रिय, ऊर्जावान और स्वस्थ रहने में मदद मिली है।  यह मेरे दैनिक जीवन का एक अनिवार्य हिस्सा है।  मुझे आउटडोर के साथ-साथ इनडोर गेम्स भी बहुत पसंद हैं।  बैडमिंटन मेरा पसंदीदा खेल है क्योंकि यह मुझे पूरे दिन सक्रिय रहने में मदद करता है।  बैडमिंटन खेलने के लिए गति, शक्ति और सटीकता की आवश्यकता होती है।  बैडमिंटन खेलने से मुझे सक्रिय और ऊर्जावान बनने में मदद मिलती है।  इस खेल में एक अच्छा खिलाड़ी बनने के लिए काफी अभ्यास और कड़ी मेहनत की जरूरत होती है।

 

 मेरा पहला बैडमिंटन मैच तब था जब मैं 12 साल का था।  मुझे इस खेल को सीखने के लिए स्टेडियम ले जाया गया और तब से यह मेरा पसंदीदा खेल बन गया है।  मैं बाहर जाने या वीडियो गेम खेलने के बजाय इसे खेलने का प्रयास करता हूं।  बैडमिंटन खेलते समय हमें दो रैकेट और एक शटलकॉक की आवश्यकता होती है।  शटलकॉक एक गेंद की तरह काम करता है, जो कॉर्क के एक छोटे टुकड़े से जुड़े पंखों से बनी होती है।  दूसरी ओर, बैडमिंटन रैकेट वजन में हल्के होते हैं।  बैडमिंटन टेनिस की तरह है;  फर्क सिर्फ इतना है कि जाल ऊंचा है और गेंद हल्की है।

3 : मेरा प्रिय खेल बैडमिंटन निबंध इन हिंदी

बैडमिंटन सबसे लोकप्रिय खेलों में से एक है जो हल्के रैकेट और शटलकॉक के साथ खेला जाता है।  अतीत में, शटलकॉक एक छोटा कॉर्क था जिसमें 16 गीज़ के गोलार्ध होते थे- सभी जुड़े हुए थे और इसका वजन लगभग 5 ग्राम था।  लेकिन वर्तमान समय के शटल बैडमिंटन वर्ल्ड फेडरेशन (बीडब्ल्यूएफ) द्वारा अनुमत सिंथेटिक सामग्री से बनाए जाते हैं।  मेरे पसंदीदा खेल बैडमिंटन के बारे में निम्नलिखित निबंध में नियमों और विनियमों, इसकी उत्पत्ति आदि पर चर्चा की गई है।  बैडमिंटन न केवल टाइम-पास के लिए खेला जाता है बल्कि शारीरिक फिटनेस को मजबूत करने, एकाग्रता बढ़ाने और प्रतिबिंब को तेज करने के लिए भी खेला जाता है।

 

 बैडमिंटन की उत्पत्ति

 

 बैडमिंटन नाम की उत्पत्ति इंग्लैंड में ब्यूफोर्ट के ड्यूक के लिए देश की संपत्ति से हुई है।  यह खेल पहली बार 1873 में वहां खेला गया था। खेल की जड़ें प्राचीन ग्रीस, चीन और भारत में भी पाई गई थीं।  यह खेल बच्चों के खेल शटलकॉक और बैटलडोर से भी निकटता से जुड़ा था।

 

 बैडमिंटन के खेल का सर्वोच्च अधिकार बैडमिंटन वर्ल्ड फेडरेशन (BWF) के रूप में प्रसिद्ध है।  इसका गठन वर्ष 1934 में हुआ था। BWF का मुख्यालय मलेशिया के कुआलूलमपुर में है।  बैडमिंटन व्यापक रूप से इंडोनेशिया, जापान, डेनमार्क और मलेशिया में खेला जाता है।  BWF के तहत पहली चैंपियनशिप वर्ष 1977 में खेली गई थी।

 

 बैडमिंटन के बारे में अधिक जानकारी

 

 बैडमिंटन न केवल अंतरराष्ट्रीय स्तर पर खेला जाता है;  कई देशों में राष्ट्रीय, क्षेत्रीय और क्षेत्रीय स्तर पर विभिन्न टूर्नामेंट खेले जाते हैं।  बैडमिंटन में प्रतिष्ठित टूर्नामेंटों में से एक इंग्लैंड में खेली जाने वाली ऑल-इंग्लैंड चैंपियनशिप है।  उबेर कप और थॉमस कप जैसे प्रसिद्ध अंतरराष्ट्रीय टूर्नामेंट भी हैं।

 

 1972 में ओलंपिक में पहली बार बैडमिंटन एक प्रदर्शन खेल के रूप में खेला गया था।  यह खेल वर्ष 1992 में पूर्ण प्रतिस्पर्धी मोड में खेला गया था। यह खेल कई श्रेणियों में खेला जाता है जैसे कि पुरुष एकल, महिला एकल।  पुरुष और महिला युगल और मिश्रित युगल की शुरुआत 1996 से हुई थी।

 

 खेल के नियम

 

 प्रतिस्पर्धी बैडमिंटन हमेशा घर के अंदर खेला जाता है क्योंकि हल्की हवा भी शटलकॉक की गति को प्रभावित कर सकती है।  मनोरंजन के लिए बने बैडमिंटन को आउटडोर खेल के रूप में खेला जाता है।  बैडमिंटन के लिए एकल मैच कोर्ट आकार में आयताकार और 13.4 मीटर लंबा और 5.2 मीटर चौड़ा है।  जाल 1.5 मीटर ऊंचा है और इसके केंद्र में कोर्ट की चौड़ाई के साथ फैला है।  इसके अलावा कोर्ट के चारों ओर 1.3 मीटर का एक स्पष्ट स्थान आवश्यक है।  बैडमिंटन के खेल में शटलकॉक को नेट पर आगे-पीछे मारना और मारना शामिल था।  यह ध्यान दिया जाना चाहिए कि कोर्ट की सीमाओं के भीतर शटलकॉक को जमीन या फर्श से छूने से अंकों का नुकसान होगा।

 

 बैडमिंटन कई लोगों के पसंदीदा खेलों में से एक है।  यह टाइमपास और मनोरंजन का एक बड़ा माध्यम है।  यह शारीरिक फिटनेस भी प्रदान करता है।  बैडमिंटन खेलने से हम शारीरिक रूप से फिट और मानसिक रूप से तरोताजा रहते हैं।  बैडमिंटन महिलाओं के लिए भी बहुत लोकप्रिय खेल है।  भारत ने गोपीचंद, साइना नेहवाल, पी.वी.  सिंधु वगैरह।  अंतरराष्ट्रीय स्तर पर बैडमिंटन में भारत का प्रदर्शन बहुत ही सुखद है।  बैडमिंटन खेलना आसान खेल नहीं है।  इसके लिए अच्छी दृष्टि और मानसिक चपलता के साथ-साथ शारीरिक फिटनेस की आवश्यकता होती है।  एकाग्रता की कमी खेल में हार का कारण बन सकती है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!