Galib ki shayari in Hindi on love | गालिब की शायरी इन हिंदी ऑन लव

हाई दोस्तो आपका इस पोस्ट में स्वागत है।

galib-ki-shayari-in-hindi-on-love

में आशा करता हू की आपको गालिब की शायरी इन हिंदी ऑन लव (Galib ki shayari in Hindi on love) पसंद आयेंगे क्युकी मेने मैंने गालिब के कुछ लेटेस्ट कलेक्शन ऑफ़ गालिब शायरी इन हिंदी ऑन लव ऐड किया है

 

galib-ki-shayari-in-hindi-on-love

 

तुझे भूल कर करे भी तो क्या करे,
इकलौता शौक है तू मेरी जिंदगी का!

Tuje Bhulkar Kare Bhi Toh kya kare,

Ikalauta Shauk hai tu meri zindagi ka

दिल से तेरी निगाह जिगर तक उतर गई।
दोनों को इक अदा में रज़ामंद कर गई।।

Dil se teree nigaah jigar tak utar gaee.
donon ko ik ada mein razaamand kar gaee..

galib-ki-shayari-in-hindi-on-love

एक उमर बित चली है तुझे चाहते हैं,
तू आज भी बेखबर है कल
की तरह…!

ek umar bith chali hai tujhe chahate hue ,
tu aaj bhi bekhabar hai kal
ki tarah…!

तेरे वादे पर जिये हम, तो यह जान, झूठ जाना।
कि ख़ुशी से मर न जाते, अगर एतबार होता।।

Tere vaade par jiye ham, to yah jaan, jhooth jaana.
ki khushee se mar na jaate, agar etabaar hota..

 

galib-ki-shayari-in-hindi-on-love

रो पड़ा वो शक्स भी
मेरी हाथो की लकीरे देखकर
बोला तुझे मौत नहीं
किसी की याद मारेंगी

ro pada vo shaksh bhi
meri hatho ki lakire dekhakar
bola tujhe maut nahi
kisi ki yaad marengi
 
दर्द जब दिल में हो तो दवा कीजिए,
दिल ही जब दर्द हो तो क्या कीजिए।
dard jab dil mein ho toh dava kijiye
dil hi jab dard ho toh kya kijiye
 
galib-ki-shayari-in-hindi-on-love
 
वो कहते हैं की सोच लेना था
मोहब्बत करने से पहले,
अब हम उनको क्या बतायें कि,
सोच कर साजीश की जाति है
मोहब्बत नहीं
 
vo kahate hai ki soch lena tha
mohabbat karane se pahile,
ab hm unako kya bataye ki,
sochkar sajish ki jati hai
mohabbat nahi
 
तू मिला है तो ये अहसास हुआ है मुझको,
ये मेरी उम्र मोहब्बत के लिए थोड़ी है ….
 
Tu Mila hai toh ye ahsas hua hai mujhe,
ye meri umra mohabbat ke liye thodi hai…
 
 
किसी ने ग़ालिब से पूछा-कैसे हो
गालिब ने हस्कर कहा,
जिंदगी में गम है
गम में दर्द है
दर्द में मजे है
और मुजे मैं हम्म है…!
 
kisi ne galib se pucha-kaise ho
gaalib ne haskar kaha,
zindagi mein gam hai
gam mein dard hai
dard mein majha hai aur majhe mein hmm hai…!
 
कुछ तो तन्हाई की राते में सहारा होता,
तुम न होते न सही जिक्र तुम्हारा होता !!
 
Kuch to tanhai ki raato me sahara hota,
Tum naa hote na sahi zikra tumhara hota.
 
galib-ki-shayari-in-hindi-on-love
हमेशा के लिए रख लो ना
मुझे अपने पास,
कोई पूछे तो कह देना
किरायदार है दिल का. !!
 
hamesha ke liye rakh lo na
muje apane paas’
koi phuche toh kah dena
kirayadaar hai dil kaa. !!
 
हम भी दुश्मन तो नहीं हैं अपने
 
ग़ैर को तुझ से मोहब्बत ही सही
 
Hum bhi dushman to nahi hai apne,
Gair ko tujh se mohabbat hi sahi.
 
 
” हजारो ख्वाहिशे ऐसी
की हर ख्वाहिशे पे दम निकले
बहुत निकले मेरे अरमान,
लेकिन फिर भी कम निकले ”
 
har khvahishe esi 
ki har khavishe pe dam nikale
bahut nikale mere araman,
lekin phir bhi kam nikale”
 
कोई उम्मीद बर नहीं आती।
 
कोई सूरत नज़र नहीं आती।
 
Koi umeed bar nahi aati,
 
Koi soort nazar nahi aati.
 
 
मशरूफ रहने का अंदाज
तुम्हें तनहा ना कर दे ग़ालिब’
रिश्ते फुर्सत के नहीं
तवज्जो के मोहताज होते हैं…|
 
mashruf rahane ka andaaj
tumhe tanaha naa kar de gaalib’
rishte fursat ke nahi
tavajoo ke mohataaj hote hai…|
 
आया है बेकसी-ए-इश्क पे रोना ग़ालिब,
 
किसके घर जायेगा सैलाब-ए-बला मेरे बाद।
Aaya hai beksi-ae-ishq pe rona ghalib,
 
Kiske ghar jayega sailab-ae-bala mere baad.
 
 
 
अब खुशी देके
आजमा ले खुदा…
इन गामो से तो में
मरा नहीं
 
ab khushi deke
ajama le khuda…
een gamo se toh mein
mara nahi
 
आईना देख के अपना सा मुँह लेके रह गए,
 
साहब को दिल न देने पे कितना गुरूर था।
 
Aaina dekh ke apna-sa muh leke rah gaye,
 
Sahab ko dil na dene pe kitna guroor tha.
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!